कलम का साथ

कलम ने लिखी पहचान की लकीरें। दिल में ख्वाहिशें लिए, आँखों में कुछ सपने लिए, जेब खाली लिए, निकले थे घर से पीठ पर जिम्मेवारियों का बस्ता टाँगे… मुक्कमल होने इस मुकाबलों के जहान में। सोचा था कुछ लम्हे तो चुरा ही लेंगे खुद की पहचान में। ना जाने क्या, पर कुछ पाने की चाहत में,…

The fire inside me

I have fire in me and tranquility also resides. I have seen the nightmares which were once decorated dreams. I have lived in shattered pieces scattered over floor. I have walked bare feet over ignited coals in the name of love. I have survived even as bones, with sorrows eating my flesh. I have lived…

My dark side

Disclosing my dark side Gasping the pain in the dark, I weave fences around me. Hunted everywhere for a ray but, nothing could bound me. I dig deep and cage in the cave of darkness and despair. Unable to resurrect, it can’t be undone… Damage done to my soul is beyond repair. Building the barricades,…

Path to salvation?

Is it the path to salvation or ruination? You make my soul dance to the beats of your heart. Your aura grabs me in… Pulls me like the moon pulls the tides. I get lost in the savor of your skin. your thoughts take me to the far away land… Where dreams and fantasies reside.…

नाम: असिफा; छोटी सी थी मैं, महज आठ साल की…

नाम: असिफा; उम्र: आठ साल; मज़हब: मुस्लिम; मौत का कारण? छोटी सी थी मैं, महज आठ साल की। अम्मी के चेहरे की मुस्कान और अब्बू की जान थी। रोज़ की तरह सुबह हुई, रोज़ की तरह चेहरे पर मुस्कान लिए अंगड़ाइयाँ लेते बिस्तर से उठी थी। तैयार होकर, अम्मी से गले लग कर बकरियाँ चराने…

सुकून का सफरनामा

सुकून का सफरनामा, बड़ी-बड़ी इमारतें-एक छोटा सा घर सुकून ढूंढ़ने निकली घर से , दिल में उम्मीद लिए और जेब में कुछ रूपए लिए। बहुत से बड़े-बड़े शहर देखे, बड़ी-बड़ी इमारतों में भी रही। बदलते मौसम देखे, बदलते लोग देखे, समय गवाया और खुद को हताश पाया। लोगों के आशियानें तो ऊँचे थे, दिखावे उससे भी ऊँचे थे,…

I embrace my deepest scars

I still embrace you and my deepest scars I don’t apologize for letting you leave. Knowing you were too little to appreciate, I still let you in. You were a river who belittled me for being deep as an ocean I was the first rain of the season, I made you my petrichor, instead you…